Woh cheez Jise Dil Ҝahate Hain¸ Haɱ bhul gaye hain RaҜh Ҝar Ҝahin

वह चीज जिसे दिल कहते है✧ हम भूल गए है✧  रखकर कहीं ✧।

gulzar shayari on love

EҜ purana ɱausaɱ lauta Yad Bhari Purvi bhi¸ Aisa to Ҝaɱ hi hota hai wo bhi ho Tanhai bhi.

एक पुराना मौसम लौटा ✧  याद भरी पुरवाई भी¸ ऐसा तो कम ही होता है✧ वह भी हो तन्हाई भी ✧।

gulzar shayari on love

Kisi ne mujhse puchha ki Dard ki keemat kya hai.? Maine kaha, mujhe nahi pata Mujhe log free me de jate hain.!

किसी ने मुझसे पूछा की दर्द की कीमत क्या है.? मैंने कहा, मुझे नही पता मुझे लोग फ्री में दे जाते हैं !

gulzar shayari on love

Unki na thi koi khtaa Ham hi galat samjh baithe Wo mohabbat se baat karte the Ham Mohabbat samajh baithe.!

उनकी ना थी कोई खता हम ही गलत समझ बैठे वो मोहब्बत से बात करते थे हम मोहब्बत समझ बैठे !

gulzar shayari on love

tamasha zindagi ka hua, kalakar sab apne nikle..

तमाशा जिंदगी का हुआ, कलाकार सब अपने निकले !

gulzar shayari on love

Mukammal ishq se jyada to charche Aduri Mohabbat ke hote hain..

मुकम्मल इश्क से ज्यादा तो चर्चे अधूरी मोहब्बत के होते हैं !

gulzar shayari on love

Dosti ruh me utra huaa Rishta hai sahab, Mulakaten kam hone se Dosti kam nahi hoti..

दोस्ती रूह में उतरा हुआ रिश्ता है साहब, मुलाकातें कम होने से दोस्ती कम नही होती..

gulzar shayari on love

Gussa bhi kya karun  tum par Tum hanste huye behad achhe lagte ho !

गुस्सा भी क्या करूं तुम पर तुम हंसते हुए बेहद अच्छे लगते हो !

gulzar shayari on love

Bahut kam log hain Jo mere dil ko bhate hain, Aur usse bhi bahut kam hain Jo Mujhe samjh pate hain..

बहुत कम लोग हैं जो मेरे दिल को भाते हैं, और उससे भी बहुत कम हैं जो मुझे समझ पाते हैं..

gulzar shayari on love

बहुत कम लोग हैं जो मेरे दिल को भाते हैं, और उससे भी बहुत कम हैं जो मुझे समझ पाते हैं..

Bahut kam log hain Jo mere dil ko bhate hain, Aur usse bhi bahut kam hain Jo Mujhe samjh pate hain..

gulzar shayari on love

Itne bure nahi the Jitne ilzaam lagaye logon ne, Kukh Kismat Kharab thi Kuch aag lagai logon ne..

इतने बुरे नही थे जितने इल्ज़ाम लगाए लोगों ने, कुछ किस्मत खराब थी कुछ आग लगाई लोगों ने..

gulzar shayari on love